The Police and Government makes all claims of security, but the truth is that..Girls is not safe. - Jobs Hiring Near Me No Experience. 2019 - www.alljobsnew.com

Post Top Ad

Click Below Now

Friday, 1 March 2019

The Police and Government makes all claims of security, but the truth is that..Girls is not safe.


Worried that we still do
The government  or police makes all claims of security, but the truth is that at night women outside themselves feel very insecure. Even today, they have to think before leaving home.

Although police claims too much about security, women still feel insecure against those who stare at them.

Even if the security system is tight To maintain the government
All efforts are made, but women still want to avoid getting out of the house at night.

Neeta Sharma, who works at the call center, says, "Women are not safe on the street at night. People's conflicts are the most troublesome for me. Stopping men from car into a car, driving them, and stopping their women badly, prevent me from getting out at night.

Actually, still the thinking of all the people is that if the woman is out of the house at night, then she is wrong. On the other hand, social worker Ambika Zaidi says, "I revolve around. Even when I stay out at night I do not feel scared, because whenever I get out at night,
Takes full care of your security.
By the way, mail or female, wake up and running
Is necessary

This is an article written by our good thinking about changing society and their thinking. If you have any thinking and comment, definitely tell.

If this article is good, then share and subscribe.

जो हमें आज भी करते हैं परेशान
सरकार सुरक्षा के तमाम दावे करती है, लेकिन सच यही है कि रात में घर से बाहर महिलाएं खुद को बेहद असुरक्षित महसूस करती हैं। आज भी उनको घर से बाहर निकलने से पहले सोचना पड़ता है।

हालांकि पुलिस सुरक्षा को लेकर बहुत ज्यादा दावे करती है फिर भी महिलाओं को घूरने वालो से असुरक्षित महसूस होता है।

भले ही सुरक्षा व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त
बनाए रखने के लिए सरकार की ओर से
तमाम प्रयास किए जाते हों, लेकिन महिलाएं अभी भी रात को घर से बाहर निकलने से बचना चाहती हैं।

कॉल सेंटर में काम करने वाली नीता शर्मा कहती हैं, 'रात को सड़क पर महिलाएं सेफ नहीं होती। लोगों की फब्तियां मेरे लिए सबसे ज्यादा तकलीफदेह होती हैं। पुरुषों का गाड़ी से सटाकर गाड़ी चलाना, ड्राइव करते हुए उनका महिलाओं को बुरी तरह घूरना जैसी बातें मुझे रात को बाहर निकलने से रोकती हैं।

दरअसल, अभी भी तमाम लोगों की सोच यही है कि अगर महिला रात को घर से बाहर है, तो वह गलत है। दूसरी ओर, समाज सेविका अंबिका जैदी कहती हैं, मैं बेखौफ घूमती हूं। रात को बाहर रहते हुए भी मुझे डर नहीं लगता है, क्योंकि जब भी मैं रात में बाहर निकलती हैं,
अपनी सिक्योरिटी का पूरा ख्याल रखती हैं।
वैसे, मेल हो या फीमेल, सजग होकर चलना
जरूरी है।

ये एक हमारी अच्छी सोच समाज को ओर उनके सोच को चेंज करने का एक आर्टिकल लिखा है। अगर आपकी कोई सोच और कमेंट हो तो जरूर बताना।
अगर ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो शेयर ओर सब्सक्राइब जरूर करे।

No comments:

Post a Comment

Post Top Ad